0(0)

IAS/PCS/BPSC Pre

  • Course level: Expert
  • Categories BPSC Pre
  • Total Enrolled 4
  • Last Update September 15, 2020

About Course

बिहार लोक सेवा आयोग एक संवैधानिक निकाय है जो बिहार प्रशासनिक सेवा एवं बिहार पुलिस सेवा आदि प्रतिष्ठित सेवाओं हेतु अभ्यर्थियों का चयन करने के लिए नियमित बिहार सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। यह परीक्षा मुख्यतः तीन चरणों(प्रारंभिक, मुख्य एवं साक्षात्कार) में संपन्न की जाती है।

Description

बिहार सिविल सेवा परीक्षा : एक परिचय
बिहार लोक सेवा आयोग एक संवैधानिक निकाय है जो बिहार प्रशासनिक सेवा एवं बिहार पुलिस सेवा आदि प्रतिष्ठित सेवाओं हेतु अभ्यर्थियों का चयन करने के लिए नियमित बिहार सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। यह परीक्षा मुख्यतः तीन चरणों(प्रारंभिक, मुख्य एवं साक्षात्कार) में संपन्न की जाती है।
प्रारंभिक परीक्षा:-
बिहार सिविल सेवा परीक्षा का प्रथम चरण प्रारंभिक परीक्षा कहलाता है। इसकी प्रकृति पूरी तरह से वस्तुनिष्ठ होती है। प्रारंभिक परीक्षा 150 अंकों की होती है, जिसमें कुल प्रश्नों की संख्या 150 होती है। प्रश्न से संबंधित आपके उत्तर अथवा चयनित विकल्प को आयोग द्वारा दी गई ओएमआर शीट में उचित स्थान पर भरना होता है। इसका उद्देश्य गंभीर एवं योग्य उम्मीदवारों का मुख्य परीक्षा के लिए चयन करना होता है।
मुख्य परीक्षा :-
बिहार सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण मुख्य परीक्षा कहलाता है। मुख्य परीक्षा वर्णनात्मक/Descriptive या व्यक्तिनिष्ठ/Subjective होता है, जहां उत्तर अपने शब्दों में लिखना होता है। अतः मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी लेखन शैली, आपकी योग्यता एवं दक्षता बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है। मुख्य परीक्षा कुल 1000 अंकों की होती है जिसमें 600 अंक सामान्य अध्ययन के लिए( 300-300 अंकों के 2 प्रश्नपत्र) 300 अंक एक वैकल्पिक विषय के लिए तथा 100 अंक सामान्य हिंदी के लिए होता है। सामान्य हिंदी क्वालीफाइंग प्रकृति के होता है और इसके अंक योग्यता निर्धारण में नहीं जोड़ा जाता है।
साक्षात्कार :-
बिहार सिविल सेवा परीक्षा का अंतिम एवं महत्वपूर्ण चरण साक्षात्कार कहलाता है। मुख्य परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों को आयोग के समक्ष साक्षात्कार के लिए उपस्थित होना होता है। बिहार सिविल सेवा परीक्षा में साक्षात्कार के लिए कुल 120 अंक निर्धारित किए गए हैं। अंतिम चयन और पद निर्धारण में इन अंको का विशेष योगदान होता है। मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्राप्त अंकों के योग के आधार पर अंतिम रूप से मेघा सूची तैयार की जाती है और पदों का आवंटन किया जाता है।

Topics for this course

1. समसामयिक मुद्दें \ Current Issue

2. भारतीय इतिहास

3. भारतीय राज्य व्यवस्था

4.भूगोल- विश्व एवं भारत

5. पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी

6. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

7. भारतीय अर्थव्यवस्था

About the instructors

0 (0 ratings)

6 Courses

27 students

Free