0(0)

BPSC OPTIONAL HISTORY

  • Course level: Expert

About Course

बिहार सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए वैकल्पिक विषय की निर्णायक भूमिका होती है। इतिहास एक वैकल्पिक विषय के रूप में एक बेहतर अंकदायी रहा है और इसे समझना एवं अपनी भाष में उत्तर लिखन भी आसान होता है। यहीं कारण है कि बिहार सिविल सेवा परीक्षा में भाग लेने वाले विद्यार्थियों के बीच वैकल्पिक विषय के रूप में इतिहास एक लोकप्रिय विषय रहा है।

Description

बिहार सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिए वैकल्पिक विषय की निर्णायक भूमिका होती है। इतिहास एक वैकल्पिक विषय के रूप में एक बेहतर अंकदायी रहा है और इसे समझना एवं अपनी भाष में उत्तर लिखन भी आसान होता है। यहीं कारण है कि बिहार सिविल सेवा परीक्षा में भाग लेने वाले विद्यार्थियों के बीच वैकल्पिक विषय के रूप में इतिहास एक लोकप्रिय विषय रहा है। बिहार सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण मुख्या परीक्षा कहलाता है। मुख्या परीक्षा वर्णनात्मक/Descriptive या व्यक्तिनिष्ठ/Subjective होता है, जहां उत्तर अपने शब्दों में लिखना होता है। अतः मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी लेखन शैली, आपकी योग्यता,दक्षता एवं अभिव्यक्ति बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है। मुख्य परीक्ष में 300 अंक वैकल्पिक विषय के लिए निर्धारित है। 300 अंक के एक मात्रा वैकल्पिक विषय की परीक्षा होंगी। वैकल्पिक विषय इतिहास के प्रश्न पत्र दो खण्डों/Sections में होंगे और प्रत्येक खंड के दो भाग /Part होंगे। कुल 6 प्रश्नों के उत्तर हमें देना होता है और हमें प्रत्येक खंड/Section से 3-3 प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं। लेकिन खंड-1 और खंड -2 के प्रत्येक भाग से दो प्रश्नों से ज्यादा के उत्तर न दें। Bpsc द्वारा प्रदत्त वैकल्पिक विषय इतिहास के पाठ्यक्रम

Demo - Free Classes

History and Culture

Noteवैधानिक चेतावनी- वेबसाइट पर उपलब्ध सभी प्रकार के सामग्री जैसे वीडियोस, आर्टिकल्स आदि का एकाधिकार gostudyclasses.com(study and Study IAS/PCS) को है। उपलब्ध सामग्री का किसी प्रकार से दुरुपयोग करना एवं किसी भी प्रकार का गलत/अवांछित सामग्रियों को वेबसाइट अपलोड करना कानूनी अपराध है।

Topics for this course

43 Lessons

Live Class

Optional History:- सिंधु घाटी सभ्यता का पतन

1.पाठ्यक्रम: प्राचीन भारत

2.पाठ्यक्रम: मध्यकालीन भारत

3.पाठ्यक्रम: आधुनिक भारत

4. पाठ्यक्रम: विश्व इतिहास

5. इतिहास के स्रोतों का मूल्यांकन

6. प्रागैतिहासिक काल

7. सिंधुघाटी सभ्यता का उद्भव एवं विकास

8. सिंधुघाटी सभ्यता का नगर योजना

9. सिंधु घाटी सभ्यता का आंतरिक एवं बाह्य व्यापार

10. सिंधु घाटी सभ्यता के सामाजिक-सांस्कृतिक एवं धार्मिक जीवन

11. सिंधु घाटी सभ्यता का पतन

12. आरम्भिक वैदिक काल/ ऋग्वैदिक काल

13. उत्तर वैदिक काल

14.सिंधुघाटी सभ्यता एवं वैदिक संस्कृति के बीच समानता एवं असमानता

15. C.6th century B.C में धर्म सुधार आंदोलन के कारक गतिविधियां

16. मौर्य साम्राज्य की केन्द्रीय शासन प्रणाली

17. सम्राट अशोक का धम्म और उसकी प्रकृति +मौर्य का पतन

18.मौर्य कला एवं स्थापत्य की विशेषताएं एवं बौद्ध धर्म के साथ संबंध.

19. गुप्त काल :- समुन्द्र गुप्त की विस्तारवादी नीति

20. गुप्त काल- चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य

21. गुप्त काल का स्वर्ण युग $ गुप्तकालीन व्यवस्थाओं का विश्लेषण

22. हर्षवर्धन -: गुप्तोत्तर काल का एक महान शासक

23. चोल साम्राज्य- केंद्रीय एवं स्थानीय निकायों की प्रशासनिक विशेषताएं

24. तुर्को की विजय एवं दिल्ली सल्तनत की स्थापना के कारण & परिस्थितियां

25. अलाउद्दीन खिलजी की नीतियां

About the instructor

0 (0 ratings)

6 Courses

29 students

40,000.00 16,000.00