0(0)

BPSC – MAINS G.S.

  • Course level: Expert

About Course

बिहार सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण मुख्य परीक्षा कहलाता है । मुख्य परीक्षा वर्णनात्मक/Descriptive या व्यक्तिनिष्ठ/Subjective होता है,जहां उत्तर अपने शब्दों में लिखना होता है। अतः मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी लेखन शैली, आपकी योग्यता, दक्षता एवं अभिव्यक्ति बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है।

Description

बिहार सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण मुख्य परीक्षा कहलाता है । मुख्य परीक्षा वर्णनात्मक/Descriptive या व्यक्तिनिष्ठ/Subjective होता है,जहां उत्तर अपने शब्दों में लिखना होता है। अतः मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी लेखन शैली, आपकी योग्यता, दक्षता एवं अभिव्यक्ति बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है। मुख्य परीक्षा में 600 अंक सामान्य अध्ययन के लिए निर्धारित है ,जहां 300-300 अंकों के 2 प्रश्न पत्र होंगे। इनके विवरण निम्नलिखित हैं – सामान्य अध्ययन –पत्र -1 सामान्य अध्ययन पत्र -1 के तीन खंड होंगे। खंड -I एवं खंड -II,प्रत्येक में से 3-3 प्रश्न तथा खंड – III में से 2 प्रश्नों का चयन करते हुए कुल 8 प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। . खंड/Section -I :- भारत का आधुनिक इतिहास और भारतीय संस्कृति (3*38=114 अंक ) . खंड/Section -II :- राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय महत्व का वर्तमान घटना चक्र (3*38=114 अंक ) . खंड/Section-III :- सांख्यिकी आरेखन और चित्र (2*36=72) Bpsc द्वारा प्रदत्त पाठ्यक्रम :- सामान्य अध्ययन पत्र -I में आधुनिक भारत (तथा बिहार के विशेष संदर्भ में ) के इतिहास और भारतीय संस्कृति के अंतर्गत लगभग 19वीं शताब्दी के मध्य भाग से लेकर देश के इतिहास की रूप – रेखा के साथ -साथ गांधी, रवींद्र और नेहरू से संबंधित प्रश्न भी सम्मिलित होंगे। बिहार के आधुनिक इतिहास के संदर्भ में प्रश्न इस क्षेत्र में पाश्चात्य शिक्षा (प्रौद्योगिकी शिक्षा समेत ) के आरंभ और विकास से पूछे जाएंगे। इसमें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बिहार की भूमिका से संबंधित प्रश्न रहेंगे। ये प्रश्न मुख्यतः संथाल विद्रोह, बिहार में 1857 की क्रांति, विरसा का आन्दोल, चंपारण सत्याग्रह तथा 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन से पूछे जाएंगे। परीक्षार्थियों से आशा की जाती है की वें मौर्य कला, पाल कला और पटना कलम चित्रकला की मुख्य विशेषताओं से परिचित होंगे। सांख्यिकीय विश्लेषण आरेखन और सचित्र निरूपण से संबंधित विषयों में सांख्यिकीय आरेखन या चित्रात्मक रूप से प्रस्तुत सामग्री की जानकारी के आधार पर सहज बुद्धि का प्रयोग करते हुए कुछ निष्कर्ष निकालना और उसमें पाई गई कमियों, सीमयों और असंगतियों का निरूपण करने की क्षमता की परीक्षा होगी । सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र -II सामान्य अध्ययन पत्र -2 के तीन खंड होंगे। खंड -I एवं खंड -II,प्रत्येक में से 3-3 प्रश्न तथा खंड – III में से 2 प्रश्नों का चयन करते हुए कुल 8 प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। . खंड/Section -I :- भारतीय राज्य व्यवस्था (3*38=114अंक ) . खंड/Section -II :- भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत का भूगोल (3*38=114अंक ) . खंड/Section -III :- भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका और प्रभाव (2*36=72 अंक ) Bpsc द्वारा प्रदत्त पाठ्यक्रम :- सामान्य अध्ययन पत्र-II में भारतीय राज्य व्यवस्था से संबंधित खंड में भारत तथा बिहार की राजनीतिक व्यवस्था से संबंधित प्रश्न होंगे। भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत तथा बिहार के भूगोल से संबंधित खंड में भारत की योजना और भारत के भौतिक, आर्थिक और सामाजिक भूगोल से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्व और प्रभाव से संबंधित तीसरे खंड में ऐसे प्रश्न पूछे जाएंगे, जो भारत तथा बिहार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्व के बारे में उम्मीदवार की जानकारी की परीक्षा करे। इनमें प्रायोगिक पक्ष पर बाल दिया जाएगा। Note- Bpsc द्वारा प्रदत्त पाठ्यक्रम में स्पष्टता का आभाव है और इसके कारण विद्यार्थियों को बहुत परेशानी होती है। इसे ध्यान में रखते हुए Study and study classes द्वारा पूर्व में पूछे गए प्रश्नों के गहन विश्लेषण के आधार पर बिन्दुवार पाठ्यक्रम का निर्मा किया गया है ,जो विद्यार्थियों को कक्षा में चर्चा के बाद pdf के रूप में प्रदान किया जाएगा। हमने उन तमाम बिंदुओं को ध्यान में रखकर पाठ्यक्रम का निर्माण किया है जहां से प्रश्न पूछे जाएंगे । इससे विद्यार्थियों को किसी प्रकार की समस्या नहीं होंगी और कोई भी पक्ष नहीं छूटेगा ।

Q1.” विद्युत ऊर्जा की मांग और खपत में असंतुलन को दूर करने के लिए परमाणु ऊर्जा एक महत्वपूर्ण विकल्प हो सकता है।” बिहार राज्य को विशेष ध्यान में रखते हुए इसकी संभावनाएं एवं चुनौतियों को स्पष्ट करें।

Q2. कृत्रिम बुद्धिमता क्या है? कृषि क्षेत्र में इसके अनुप्रयोग की चर्चा करते हुए बताएं कि यह किसानों के लिए किस प्रकार लाभदायक सिद्ध हो सकता है।

Q3. प्लाज्मा थेरेपी क्या है? COVID 19 संक्रमण को विशेष ध्यान में रखते हुए इसकी संभावनाएं एवं चुनौतियों की चर्चा करें।

Q4. “विभिन्न प्रकार की आपदाएं मानव समुदाय एवं पर्यावरण के समक्ष चुनौती के रूप में देखे जा सकते हैं।”वर्तमान परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए हैं आपदा प्रबंधन के प्रमुख उपायों की चर्चा करें।

Q5.  COVID19 संक्रमण के कारण बदल रही वैश्विक कूटनीति को ध्यान में रखते हुए भारत – मलेशिया संबंध  को विशेष संदर्भ में स्पष्ट करें।

Q6. भारत- चीन संबंध को वर्तमान में बदलते हुए घटनाक्रमों के आधार पर स्पष्ट करें। क्या भारत द्वारा चीनी व्यापार पर युक्तियुक्त प्रतिबंध लगाना तर्कसंगत है? स्पष्ट करें।

Q7. क्या स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए COVID19 संक्रमण वरदान साबित हो सकता है? बिहार के विशेष संदर्भ में स्पष्ट करें।

Q8.”बिहार में बेरोजगारी कामगारों के लिए सबसे बड़ी समस्या है और वर्तमान घटनाक्रम ने इसे और कष्ट कर बना दिया है।” इस समस्या से निपटने के लिए सरकारों(केन्द्र व राज्य) द्वारा कौन-कौन से कदम उठाने चाहिए ? अपने शब्दों में लिखें।

Q9. विश्व तेल कूटनीति और गिरते कच्चे तेल के दाम को विशेष ध्यान में रखते हुए भारत-ईरान संबंध को स्पष्ट करें। क्या गिरते कच्चे तेल के दाम से भारत को होगा फायदा? स्पष्ट करें।

Q10. विभिन्न एजेंसियों की रिपोर्टों को विशेष ध्यान में रखते हुए स्पष्ट करें कि “भारत में वे तमाम अवसर विधमान है जो इसे इस वैश्विक महामंदी से बाहर निकाल सकते हैं।” स्पष्ट करें

Topics for this course

11 Lessons

Live Class

भारत में उपनिवेशवाद की स्थापना के कारण एवं सहायक परिस्थितियां

1. Syllabus of G.S.Paper 1st /Section-I?

(History and Culture)

2.मौर्य कला एवं स्थापत्य की विशेषताएं एवं बौद्ध धर्म के साथ संबंध

3.पाल कला एवं स्थापत्य की विशेषताएं

4.पटना कलम चित्रकला शैली

5.मधुबनी चित्रकला शैली

6.मौर्या कला एवं पाल कला की विशेषताओं का तुलनात्मक अध्ययन?

Live class for BPSC mains यह क्लास सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र एक पर आधारित है। इस क्लास में सुरेश कुमार द्वारा जनजाति आंदोलन की पृष्ठभूमि और तमाड़, हो एवं कोल एवं विद्रोह पर व्यापक रूप से चर्चा की जाएगी

7.जनजातीय आंदोलन की पृष्टभूमि:- तमाड़, हो, एवं कोल विद्रोह

8.संथाल विद्रोह: कारण, परिणाम और प्रभाव

9. मुंडा आंदोलन : कारण, परिणाम और प्रभाव

10.जनजातीय आंदोलन की विशेषताओं की समीक्षा एवं उनकी असफलता के कारण

About the instructors

0 (0 ratings)

6 Courses

27 students

28,000.00 12,000.00